Visitor Remarks

I always feel energetic, whenever I visit this institution because this is a pioneer institute of this area which has contributed maximum to spread education in this area. Today, on the occasion of 10th death anniversary of late Ch. Bhim Sen who was a student and Kulpati of this Gurukul, I am happy to note that this institution is progressing leaps and bounds under the Chairmanship of Brig. Satya Dev, an able son of great freedom fighter and social reformer late Ch. Bhim Sen. I wish all success  to the school.

 Sh. Bhupender Singh Hooda Chief Minister, Haryana

CM-Paying-Tribute-to-Ch.-Bhim-Sen-300x199

मुझे आज दिनांक 17.02.2013 को गुरुकुल मटिंडू  में आने का अवसर प्राप्त हुआ। प्राचीन सभ्यता, संस्कृति व नएपन का बहुत ही अच्छा मिलाप यहाँ महसूस हुआ। ये ऐसा ऐतिहासिक   गुरुकुल है जहाँ स्व . भीमसेन वेदालंकार जी के आशीर्वाद से ब्रिगेडियर सत्य देव जी के दिशानिर्देश में बहुत उत्तम कार्य किये जा रहे हैं। शिक्षा के अधिकार के बाद हम सब की जिम्मेदारी बनती है कि हर बच्चा पढ़े और अच्छा नागरिक बने। मेरी सभी गुरुकुल के पदाधिकारियों और बच्चों को शुभकामनाएं।

श्रीमति गीता भुक्कल,शिक्षा  मंत्री, हरियाणा

A very meticulously organized function. It gives glimpses of the vision of the school at various corners. Celebrating birth and death anniversary of our forefathers is essential for giving right direction to the future generation. Wishing best of luck to the management, staff and students.

Dr. Balbir Kaur, PVC, BPS Woman University,Khanpur Klan

It was an enjoyable experience. Nice to see such an exemplary performance and high standards from young children of rural Haryana. Thanks a lot.

Maj. Gen. Y. Sangra, VSM, 1024, Sec.-37, Noida

An excellent institution. I wish the best to this institution in promoting education both academic and spiritual to the children of our rural areas.

Col. Jaipal Singh Dahiya, Sisana

संस्थानमिदं बहुशोभनम

प्रो . सुरेन्द्र कुमार, संस्कृत विभाग, म द वि , रोहतक

I feel proud that I belong this place. I am honoured that I was invited here today. The progress that this institution is making is unbelievable. The fine balance between modernization and tradition is something that we should all aspire. I wish the staff and students the very best in their lives.

Mrs. Asha Hooda, Vice-President, Haryana Council for Child Welfare

I had been visiting Gurukul as a child every year. I felt extremely happy to see the Gurukul in its present state today. It has come a long way to reach this level in the field of education. I wish continued success.

Brig. (Retd.) K. S. Sharawat Village- Morkheri, Rohtak

ग्रामीण आँचल में अत्याधुनिक सुविधा संपन्न स्कूल देखकर अद्भुत सुखद आश्चर्य हुआ। यहाँ की अनुशासन व्यवस्था अतुलनीय है। NCC Cadets, Scouts व Students का अनुशासन बहुत अच्छा था. सांस्कृतिक कार्यकर्मों में छोटी बच्चियों की प्रस्तुति आह्लाद्पूर्ण थी। लम्बी तान के गीतों को दो भाग में बांटकर गाना, गवाने के संयोजन की कुशलता दर्शाती है। इस सबके लिए मैं गुरुकुल शिक्षा परिषद् मटिंडू को बधाई देती हूँ और अपनी शुभकामनाएं देती हूँ।

डॉ. लक्ष्मी बेनीवाल दलाल प्राचार्या ,आई सी कॉलेज फॉर वुमन, रोहतक

 गुरुकुल सी. सै. स्कूल में मुख्य अतिथि के रूप में आना मुझे सम्मानजनक लगा। मेरे अपने क्षेत्र में इस प्रकार के All Round Development वाले विद्यार्थियों को पाकर मुझे बहुत अच्छा लगा। स्कूल में शैक्षिक वातावरण व अनुशासन सराहनीय है। भगवान से कामना करती हूँ यह संस्था दिन दूनी रात चौगुनी उन्नति करें .

डॉ श्रीमति सुरेश बूरा प्राचार्या, कन्या महाविद्यालय, खरखौदा

मैं यहाँ बार-बार आना चाहूँगा।

श्री शीलक राम ढुल, हिंदी विभागाध्यक्ष, जाट कॉलेज , रोहतक

Selected Visitor’s Remarks on the occasion of celebration of Centenary 18 Jan 2015 

1.     भूपेन्द्र सिंह हुड्डा (पूर्वमुख्यमंत्री, हरियाणा) – गुरूकुल के शताब्दी समारोह में आकर मुझे बहुत खुशी हो रही है| इस संस्था ने अनेक देशभक्त व स्वतंत्रता सैनानी पैदा किये हैं । इस संस्था का देश की आजादी में बडा योगदान है । गुरूकुल की स्थापना चौधरी पीरू सिंह,  चौधरी शिवकरण के त्याग व तपस्या का जीता जागता प्रयास है । मेरी शुभकामनाएँ सदैव इस संस्था के साथ हैं ।

2.     डाॅ राम प्रकाश (पूर्व सांसद, राज्य सभा एवं कुलाधिपति, गुरूकुल कागंडी विश्वविद्यालय, हरिद्वार) –  इस क्षेत्र के उत्थान में गुरूकुल के संस्थापको का योगदान कभी भुलाया न जा सकेगा । मैं ब्रिगेडियर सत्यदेव जी और उनके साथियों को इस संस्था के सजग संचालन पर बधाई देता हूँ ।

3.     Jai Tirth Dahiya (MLA Rai)- आज इस गुरूकुल की शताब्दी के अवसर पर मैं अपने आप को बहुत अनुग्रहित महसूस कर रहा हूँ  ।

4.     Jagbir Singh Malik (MLA, Gohana) – This Gurukul was established hundred years ago when education was only a dream in villages. This thought of giving education in this area by Ch. Piru Singh ji was appreciable and now Brig. Satya Dev has nourished this tree well. I hope Gurukul will progress leaps & bonds.

5.     Surender Kumar(Prof. Sanskrit Dept, MDU, Rohtak) –      बहु शोभनम् !

6.     डाॅ राजेन्द्र विद्यांलकार (कुरूक्षेत्र विष्वविद्यालय)- अदभूत ! अकल्पनीय! गुरूकुल मटिण्डू ने जैसी प्रगति की है वह अत्यन्त सराहनीय है । परिसर में स्वच्छता का स्वरूप देखकर गदगद हूँ । आशा करता हूँ कि यह संस्था गुरूकुलों की प्रतिनिधि संस्था बनेगी ।

7. डाॅ रामचन्द्र  (University College,Kurukshetra) – चौधरी पीरू सिंह जी द्वारा संस्थापित इस गुरूकुल में उपस्थित होकर अति आनन्द हुआ । वर्तमान  समय में जबकि मूल्यविहीन शिक्षा का विस्तार हो रहा है, यह गुरूकुल सर्वगुण सम्पन्न नयी पीढी को तैयार कर रहा है ।

8. Lt. Gen DP Vats (PVSM, S.M,V.S.M) -A wonderful Gurukul to produce physically fit morally upright and alert students to take responsibilities for society and nation. Excellent. Keep it up!

9. K.P.Dutta (Representative of Indian Postal Department) -Impressed to see the Gurukul, I highly appreciate the Institute.

10. Col. Ranbir Singh Jakhar (Director-Gurukul  Matindu)  -Very educative function. Learnt a lot about our value system, ethos and cultural outlook as envisaged by the “Arya Samaj”. Excellent arrangements.

11. Dr. Kavita Chakravarti (Registrar ,PSMW, Kanpur)- Establishment of Gurukul , was the beginning of new era of rural Haryana history of education. Under the leadership of Brig. Satya Dev, Institution is enlightening the unpolished minds of rural children and promising them a better future. I salute the efforts.

12.ब्रिगेडियर सत्यदेव (चैयरमेन गुरूकुल मटिण्डू) –   शताब्दी के अवसर पर यही आशा है कि यहां का हर विद्यार्थी सफल नागरिक बने व समाज को व देश को समर्पित हो ।